गंगा महोत्सव

पवित्र नदी गंगा के तट पर अति सौंदर्य एवं मनोरम माहौल का वाद्य-वृंद रचनाओं के साथ मिश्रण एक ऐसा अनूठा अनुभव है जो शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है। इस उत्सव में शास्त्रीय संगीत के दिग्गजों द्वारा जो संगीतमय माहौल उत्पन्न होता उसका अद्भुत अनुभव भी अविस्मरणीय है।

गंगा महोत्सव हस्तशिल्प वस्तुओं के लिए भी उत्तम स्थान है जहाँ हस्तशिल्प वस्तुओं की एक व्यापक रेंज देखी जा सकती है। अर्बन हाट, सांस्कृतिक संकुल, चौका घाट में गंगा महोत्सव के दौरान 10 दिवसीय क्राफ्ट बाज़ार(राष्ट्रीय क्राफ्ट मेला) आयोजित होता है जहाँ 20 राज्यों से भी ज्यादा के शिल्पकार भाग लेते हैं तथा अपनी शिल्पकारी योग्यता का प्रदर्शन करते हैं। यह एक ऐसा स्थान है जहाँ खरीदारों का सीधे उत्पादकों के साथ संपर्क होता है तथा यहाँ से खरीदार सीधे शिल्पकारों से हस्तशिपल खरीद सकते हैं।

गंगा महोत्सव के समापन दिवस पर देव दीपावली जैसा एक उज्जवल पर्व माना जाता है जो गंगा महोत्सव का मुख्य आकर्षण होता है। इस पर्व के दौरान गंगा नदी के पावन जल में श्राद्धलुओं द्वारा लाखों दीये विसर्जित किए जाते हैं जो एक अविस्मरणीय दृश्य होता है। साथ ही इस पर्व के दौरान पूरे वातावरण में धूप की सुगंध फैल जाती है एवं मंतरों की मंत्रमुग्ध होने वाली ध्वनि गूँज उठती है जिससे ऐसा महसूस होता है कि मानो आप खुद स्वर्ग में इस दिव्य पर्व के साक्षी बनने को आ गए हों।

इसके अलावा गंगा महोत्सव की मुख्य विशेषताओं में गंगा मैराथन, पारंपरिक खेल, कंट्री बोट रेस, कुश्ती(भारतीय शैली) आदि का आयोजन है।

उ. प्र. पर्यटन से जुड़ें   #uptourism   #heritagearc
अंतिम संपादन तिथि : शनिवार, Nov 19 2016 11:58AM