रूर्बन विलेज

दिल्ली-देहरादून राष्ट्रीय राजमार्ग-58 पर ग्रामीण पर्यटन विकास के अंन्तर्गत जनपद गाजियाबाद से लगभग 25 कि0मी0 की दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग से लगभग 03 कि0मी0 अन्दर “द ररबन विलेज” के नाम से एक ग्रामीणन पर्यटन इकाई विकसित की गयी है। यह इकाई लगभग 07 हेक्टेयर भूमि पर विकसित की गयी है। इस इकाई पर निम्नलिखित गतिविधियां की जाएंगी:

1. पारम्परिक ग्रामीण क्रीड़ायें:- गिली डन्डा, पिठू लटृटू, कन्चे, लंगड़ी टांग, कब्बडी, रसाकसी, क्रिकेट, बैडमिंटन , वॉलीवाल, फूटबॉल, शतरंज इत्यादि।
2. इन्डोर क्रीड़ायें:-   तम्बोला, कैरम, चैस, चोपड़, सांप सीढ़ी, लूडो इत्यादि।
3. ग्रामीण क्रिया:- पौटरी, चस्खा, आटा चक्की, तोता भविष्यवाणी इत्यादि।
4. ग्रामीण रचनात्मक क्रियायें:- छप्पर बनाना, पंखा बनाना, मेहंदी इत्यादि।
5. ग्रामीण मनोरंजन:-          बाइस्कोप, आसमानी झूला, बहरूपिया, नट इत्यादि।
6. ग्रामीण सहासिक क्रियायें:-  एयर गन शूटिंग, तीरनदाजी, गूलेल, रिवरक्रासिंग बॉल और रॉक क्लाइविंग, कमान्डोक्रौल, टायर जम्प इत्यादि 
7. ग्रामीण जल खेल:-  मडबाथ, इत्यादि।
8. ग्रामीण नृत्य व गायन:-      लोकगीतों पर नृत्य (पर्यटक अपने पसंदीदा गीतों का पेन ड्राइंव के माध्यम से लुत्फ उठा सकते हैं)।
9. खानपान:-  शुद्ध शाकाहरी देशी व्यंजन लुत्फ उठाने के लिये चूल्हा चौका नाम रसोई का निर्माण करवाया जायेगा।
10. अरबन हॉट:-  सप्ताह के अन्त में अरबन हॉट नामक बाजार का आयोजन किया जायेगा, जिसमे ग्रामीण व्यंजन जैसे कि:- खोम्चा, मटरचाट, गोलगप्पे, पपड़ी चाट तथा कन्जी का पानी का लुफ्त उठाने का मौका मिलेगा।
11. सांस्कृतिक कार्यक्रम   सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन हेतु 300 से 400 लोगों के "ओपन एयर एमफी थ्रयेटर" का निर्माण करवाया जायेगा।
12. कृषि क्रियायें:- वरमी कम्पोस्टिंग, डिप सिंचाई, खेत जोतना, पशु पालन गोशाला, सोलर पावरटयूबवेल, रईया-दूध बिलोना, बिटोरा, जैसी क्रियायों का आयोजन किया जायेगा।
13. वॉटिका  पाल्म बोनसाइ, फूड ऑरचिड, कमल का तालाब, भूल-भूलैया इत्यादि।

उ. प्र. पर्यटन से जुड़ें   #uptourism   #UPNahiDekhaTohIndiaNahiDekha
अंतिम नवीनीकृत तिथि : सोमवार, May 7 2018 6:44PM